हिंदी में बात

दो शब्द - आओ इंजिनियर बने !

व्यवसाय कोई भी हो , लक्ष्य अगर सिर्फ धन कमाना है तो जरूरी नहीं कि हम इंजिनियर बने। परन्तु समस्या है सोच की - कुछ व्यवसाय प्रतिष्ठा के प्रतीक माने जाते हैं तो कुछ को हम छोटा समझते है। उदाहरण के लिये कोई पान-पकौड़े-खिलौने और गिफ्ट बेचने वाला एक महीने में लाख रूपये से ज्यादा कमा लेता है तो बहुत से पढ़े लिखे पाँच-दस हजार रूपये की नौकरी के लिये दर दर भटकते है, जिनमें बी टेक डिग्री वाले भी शामिल हैं..... आगें पढ़ें एक नया वायरस

शिवरात्रि -एक पर्व " जल सेवा का "

एक जमाना था जब हमारे पूर्वज "जल सेवा " के लिए गर्मियों में प्याऊ लगवाते थे ; बावड़ी, कुआं ,और तालाब बनवाते थे ;परन्तु आज के शहरी वातावरण में न तो इस काम के अवसर हैं और न ही हमारे मन में "जल सेवा " का भाव जगता हैं ।... आगें पढ़ें

तैयारी बदलते परिवेष की (हिन्दी दिवस पर समर्पित )

इंजीनियरिंग शिक्षा में सूचना प्रधौगिकी ने रोजगार सृजन के क्षेत्र में ऐसी क्रान्ति की कि जिसको देखो उधर ही भागता था I आज भी IT और CS ब्रॉन्च का बोलबाला है I लेकिन जमीनी हकीकत तेजी से बदल रही है I बढ़ते आटोमेशन , रोबोटिक्स तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेन्स के उपयोग ने रोजगार के अवसरों पर हथौड़ा चला दिया है I ....आगें पढ़ें

Subscribe/Unsubscribe to e-NewsLetter

Email-Id :

   

Options :